Business ideas – Goli Vada Pav Story| The Common Man’s Choice

Business ideas – Goli Vada Pav | The Common Man’s Choice 

दोस्तों आपने हमेशा बड़े रेस्टोरेंट में और MacDonald जैसे शॉप में Pizza और Burger खाया होगा। जो India के बाहर का product है। जिसका India में बहुत बड़ा Market share है। इतना बड़ा मार्केट होने के बाद भी जब किसी Indian को पूछा जाये की उसे Burger और Vada Pav में क्या ज्यादा पसंद है तो वह Vada Pav ही कहेगा। वडापाव वह Fast Food है जो Mumbai के 70 % लोगो की भूख मिटाता है . वह भी सिर्फ १० रूपए में। आज हम आपको उसी Vada Pav की कहानी बताने वाले है।

Vada Pav Story Start

हिंदी में कहावत है की; बड़ी चीजें छोटे पैकेट में आती हैं.जो बिलकुल सही साबित होती है Goli Vadapav के लिए। Goli vada pav के संस्थापक वेंकटेश जी यह नहीं जानते थे की Vada Pav जैसी साधारण चीज उनको इस स्तर की सफलता दिला देगी।
जब Vyanktesh जी अपने नेबर के पार्टी में गए थे जो एक Multinational Food company के CEO थे तब उन्होंने पार्टी में Indian Dishes रखी थी जहा उन्होंने कहा था की कुछ भी करो यार हिंदुस्तानी आदमी हिंदुस्तानी खाना ही खाना पसंद करता है। तब व्यंकटेश जी को लगा की अगर कोई Business शुरू करना है तो वह Food Sector में ही किया जाये पर जब वह सोचने लगे की ऐसा कौन सा Product हो जो हिंदुस्तान में चले. तो वह Confused हो गए क्यो कि हिंदुस्तान के हर States में लोगो की Food Test बदल जाती है. जैसे की मुंबई में वडापाव फेमस है तो साउथ में इडली डोसा।

Related 

Asset-Light Business Model In Hindi
Business ideas – Goli Vada Pav Story| The Common Man’s Choice
Food Delivery Business Success Story
Online Business Idea
Chaayos The Best Business Success story in hindi

How To Decide Product Goli Vda Pav

जब एक बार वह VT Station के पास खड़े थे. तो उन्होंने वह एक बड़ा Banner देखा जिसपर Burger की Advertise थी और उसी Banner के निचे एक अंकल जी अपने बनियान और लुंगी के पहनावे में वडापाव बेच रहे थे. वहा से व्यंकटेश जी ने एक वडापाव ख़रीदा और वह उस Banner पे बने Burger को देखने लगे और साथ ही एक नजर अपने हाथ में लिए वडापाव को देखने लगे तो उन्हें वहा Twins Brothers (जुड़वाँ भाई ) की स्टोरी नजर आने लगी  और उन्होंने सोचा की ऊपर लगे Banner के Burger में और इस वडापाव में क्या Differences है। जो यह अलग अलग जगहों पर बेचे जाते है और इनके cost में भी बड़ा difference है।
 तो उन्हें नजर आया की दोनो Product में  Bun (पाव) ही है बस एक में चिली है तो दूसरे में Sauce और चीज़।  उन्हें लगा की वडापाव और Burger वह दो भाई है .जो मेले में बिछड़ गए जिसमें से एक America चला गया और दूसरा India में रह गया.जिनमे से Burger बड़ा आदमी बन गया और वडापाव आज भी गटर के बहार ही रह गया। फिर व्यंकटेश जी ने Decide कर लिया की में वडापाव को भी उस मुकाम तक ले के जाऊँगा जहा यह दोनों भाई आमने सामने खड़े हो पाए।अगर Burger एक बड़ा Brand हो सकता है तो वडापाव क्यों नहीं ?

जब हमने व्यंकटेश  जी से पूछा वडापाव ही क्यूँ  ?

उन्होंने कहा की आज पति पत्नी दोनों ही जॉब करते है। और बहुत बार खाना बहार से घर में आता है . घर पर नहीं बनाया जाता पर जब दिन भर लोग बड़ी कंपनियों में काम करते है तो उनके पास खाने के लिए समय काम होता है जिसकी वजह से वह Fast Food खाना पसंद करते है। 
पर वडापाव ही क्यों ? क्योंकि मसाला डोसा ,पानी पुरी,इटली यह चीजें आप 5 Minuit में बनाकर नहीं दे सकते. पर वडापाव आप 5 Minuit में बनाकर दे सकते हो। और साथ ही अगर आप इडली या डोसा चुनते हो तो उसके साथ आपको चटनी और साम्बर लगता है. तब प्लेट और Spoon भी  लगता है . साथ ही Table और Cheer लगते है। जिसके बाद अगर कोई Cuple आता है और एक प्लेट इडली डोसा खाते हुए 2 घंटे बाते करते बैठेंगे तो Business का तो Band ही बजेगा ना ।लेकिन वडापाव हात में पकड़कर खाया जाता है। जिससे वह जल्दी खत्म होता है और वडापाव के लिए ऊपर बताई गयी चीजे भी नहीं लगती. जिससे  Product Cost कम हो जाता है जो मुंबई के लोकल में ट्रवेल करते वक़्त भी खाया जाता है  ।  इसी लिए हमने वडापाव अपना Product चुना। 
   
फिर लोगो ने कहा की यह Mumbai में चलता है तो INDIA के दूसरे स्टेट में यह Product चलेगा क्या।  
उस वक़्त व्यंकटेश जी ने कहा की हर जगह के Food  में आलू इस्तेमाल होता है। जो India के हर state में किसी ना किसी Food  में होता है। जैसे की समोसे में आलू ,डोसा में आलू और वडापाव में भी आलू तो यह अच्छा Food साबित होगा अगर हल्दीराम ने थोड़े बेसन को तेल में डाला थोड़ा मसाला लगाया तो 100 करोड़ का Empire खड़ा हो गया और हमारे Food में तो बेसन और आलू दोनों है तो हमारा प्रोडक्ट क्यों नहीं चलेगा ?
बस बात आती है तो वडापाव का STANDERD बढ़ाने की उसे अच्छे ढंग से Present करने की जो आज Goli Vada Pav के हर shop में आपको दिखाई देगा। पुरे इंडिया में Goli vadapao की एक ही टेस्ट और पैकजिंग है। 

How To Choose Brand Name GOLI VADA PAV 

जब में अपने प्रोडक्ट के लिए Brand नेम ढूंढ रहा था तो मेरे सारे Friends मुझे कह रहे थे की English नाम रख जिससे Brand जल्दी बनता है.पर मैंने उनसे कहा की आप हल्दीराम के भुजिया को halti bhujiya बोल सकते हो क्या या  नल्ली साड़ी को nady साडी बोल सकते हो क्या नहीं ना. तो उसी तरह मुंबई का वडापाव तो मुंबई का नाम जैसे की हिंदी फ़िल्मो में होता है रापचिक,आइटम,गोली बस वही से मैंने Decide किया Brand नेम Goli vada pav
जिसकी शुरुवात हमने कल्याण से की ( कल्याण वह जगह है, जहां पहले आउटलेट का निर्माण वेंकटेश अय्यर और Shivadas Menan द्वारा ४० लाख रुपये के निवेश के साथ किया गया था ) जहा उन्होंने एक स्टोर डाला और एक जगह किचन बनाया जहा से बाकी सारे स्टोर्स में वडापाव जाता था।  
जब Business शुरू हुआ तो Vyanktesh जी के सामने बहुत सी समस्याएं खड़ी थी।

जैसे की Wastage सुबह वडापाव बनाओ तो वह शाम को ख़राब हो जाता है और दूसरा था Test अगर शेफ भाग जाये या एक शेफ एक टेस्ट हर जगह कैसे दे पायेगा .

दूसरी समस्या थी Standerlisation – एक  वडापाव Burger के मुकाबले में कैसे आ पायेगा तो। Vynkatesh जी के बैंकर ने उनसे कहा था की व्यंकी वडापाव तो Burger नहीं बन पायेगा पर तू Beggar ज़रूर बनेगा और उनकी Funding भी बंद कर दी  ।

इस समस्या से बहार निकलने के लिए Goli Team ने Technology पे बहुत पैसे खर्च किये जिसके बाद एक पुराने दोस्त के मदत से उनको ऐसी Technology मिल ही गयी जिससे उनके Product waste होने की समस्या ख़त्म हो गयी। पर उनके सामने अभी भी बड़ी समस्याएं थी जैसे की सरकारी निर्बंध पर इन सबसे निकल कर पुरे इंडिया में छा गया। Goli vadapav आज पुरे India में एक बड़ा Brand हो गया है आज हिंदुस्तान के हर शहर में आपको Goli vadapav के Stores देखने को मिलेंगे । एक 10 रुपये का वडापाव आज MacDonald के साथ Mall में बेचा जा रहा है। 
आपको यह Goli  vadapav Story कैसी लगी हमें Comment में ज़रूर बता ये और इस कहानी को इतना share करे की India में हर कोई Business करना चाहे। 

Author: Shree

Shrikant Vadnere is the chief Digital Marketing Expert and the Founder of Mastarji.com.He has a very deep Intrest in all technology topics what so ever. His passion, dedication and quick decision-making ability make him stand apart from others.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *